अधर्मी और दुष्ट कहे जाने वाले रावण को इस जिले में पूजते हैं लोग

रावण प्रकांड विद्वान थे यह बात किसी से छुपी हुई नहीं है ।रावण अपनी शिव भक्ति के लिए भी जाने जाते है ।उसके बावजूद रावण की पूजा राम के देश में होती हो वो भी बिहार में यह चौंकाने वाला है ।लेकिन यह सच्चाई है की बिहार के इस जिले में लोग ना सिर्फ रावण की पूजा करते है बल्कि रावण का मंदिर भी ग्रामीणों ने बना कर रखा है ।

बिहार के सीमावर्ती किशनगंज जिले का इतिहास बहुत प्राचीन है । मालूम हो कि महाभारत कालीन इतिहास से जिले की पहचान तो है ही ।लेकिन 70% इस मुस्लिम बहुल जिले में लंकाधिपति रावण की भी पूजा की जाती है ।

यह मंदिर किशनगंज जिले के कोचाधामन प्रखंड स्थित काशी बाड़ी गांव में स्थित है ।जहां विधि विधान के साथ रावण की पूजा की जाती है ।

मालूम हो कि यहां रावण का मंदिर बना हुआ है और रावण की पत्थर की मूर्ति स्थापित की गई है । ग्रामीणों द्वारा पूरे विधि विधान से जहां अन्य देवी देवताओं की पूजा की जाती है वहीं लंकेश्वर की भी पूजा और आरती होती है । स्थापित मूर्ति में रावण के दस सिर दिखाए गए है और हाथ में शिवलिंग भी है ।

मालूम हो कि भले ही रावण का जन्म राक्षस कुल में हुआ था लेकिन वो प्रकांड विद्वान और शिव भक्त थे । हालांकि इस बात पर इतनी आसानी से भरोसा नही किया जा सकता लेकिन हम आपको इसकी सच्चाई बता रहे है।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?